Friday, August 11, 2017

रामलीला से आरम्भ हुआ बस्तर में रंगकर्म (बस्तर: अनकही-अनजानी कहानियाँ, भाग – 54)


बस्तर में ज्ञात रंग कर्म का इतिहास बहुत पुराना नहीं है। सन 1913 में बनारस से एक रामलीला मंडली राजधानी जगदलपुर पहुँची। मंड़ली ने कई दिनों तक राजमहल में रामलीला का मंचन किया। इससे प्रभावित हो कर सन 1914 में राजा रुद्रप्रताप देव ने एक रामलीला मंडली की स्थापना की। यह एक तरह से जगदलपुर में रंगमच का आरंभ था। भव्य रामलीला हुआ करती थी। पात्रों का चयन करते हुए उनकी आयु, कद काठी और स्वभाव तक का ध्यान रखा जाता। स्त्री पात्रों का किरदार भी पुरुष करते थे। राम, लक्ष्मण और सीता पात्रों को मंच पर आने के लिये उपवास करना पड़ता था। राज्य की ओर से पात्रों की नियुक्तियाँ होती तथा उन्हें जीवन यापन की अनेकों सुविधायें प्रदान की जाती। रामलीला का मंचन सीरासार में तथा राजमहल में गणेशोत्सव, दशहरा, जन्माष्टमी और रामनवमी के अवसरों पर भव्य स्वरूप में राज्य के खर्च पर किया जाता था। इस आयोजन में आरती से प्राप्त राशि पर भी रामलीला मण्डली तथा रंगकर्मियों का ही अधिकार होता था। लीला में ‘राम की बारात’ जैसे प्रसंगों की शोभायात्रा में राज्य पुलिस के घुड़सवार तथा पैदल सिपाही सम्मिलित होते थे। 

राजतंत्र ने अपनी समयावधि में रंगकर्म को प्रोत्साहित किया और इस कारण अनेक संगठन खडे हुए,  रंगकर्मियों की तादाद बढी और कई बेहतरीन नाटक मंचित किये गये। राजा रुद्रप्रताप देव की स्थापित परम्परा को डॉ. अविनाश बोस तथा कुँअर अर्जुन सिंह ने एमेच्योर थियेट्रिकल सर्विस के नाम से आगे बढ़ाने का यत्न किया। वर्ष 1927 में अंचल में छदामीलाल पहलवान ने नौटंकी का सूत्रपात किया। 1929 में छोटे लाल जैन ने प्रेम मण्डली नाट्य संस्था की स्थापना की जिसका प्रदर्शित नाटक ‘हरिश्चंद’ महारानी प्रफुल्ल कुमारी देवी के द्वारा बहुत सराहा गया था। 1929 में जगदलपुर के महार-कोष्टा समाज ने सीताराम नाटक मंडली का गठन किया जिनका नाटक ‘वीर अभिमन्यु’ सर्वाधिक चर्चा में रहा। 1939 में बाल समाज जी स्थापना हुई जिसका सर्वाधिक चर्चित नाटक था ‘सीता वनवास’। पैट्रोमैक्स और चिमनियों की रोशनी में काम करने वाली इस संस्था ने 1940 में अपना नाम बदल कर सत्यविजय थियेट्रिकल सोसाईटी रख लिया। व्याकुल भारत, असीरेहिंद, दानवीर कर्ण आदि इस संस्था द्वारा प्रदर्शित चर्चित नाटक थे। इस संस्था ने 1946 में लाला जगदलपुरी लिखित नाटक "पागल" का मंचन किया था जो बहुत चर्चा में रहा था। आज मीडिया के दखल, सिनेमा की चकाचौंध तथा वैकल्पिक मनोरंजन के साधनों ने रंगकर्म को पर्याप्त क्षति पहुँचायी है, तब भी साँसे ले रहा है बस्तर में रंग कर्म। अब भी सक्रिय हैं अनेक पुराने नये रंगकर्मी। महत्वपूर्ण बात यह कि बस्तर में रंगकर्म का अपना गौरवशाली अतीत है।

 - राजीव रंजन प्रसाद
==========

No comments: